What is internal Hardware in hindi? computer internal component



Internal hardware: Computer hardware हार्डवेयर क्या होता है, उसके बारे में मैं आपको पहले ही एक पोस्ट में बता चुका हूं अब जानते हैं computer के internal hardware के बारे में कंप्यूटर का इंटरनल components और इंटरनल हार्डवेयर वह होता है, जो कंप्यूटर के CPU के अंदर होते हैं, उनको हम इंटरनल हार्डवेयर बोलते हैं
कंप्यूटर के इंटरनल हार्डवेयर में Processor, Motherboard, Ram, Power supply, hard disk आदि होते हैं, एक बात और हार्डवेयर के कुछ parts एक्सटर्नल भी होते हैं, जैसे के Hard Disk Drive यह हार्डवेयर component इंटरनल हार्डवेयर भी होते हैं और एक्सटर्नल हार्डवेयर में भी आते हैं, लेकिन हम basically हार्ड डिस्क को को इंटरनल हार्डवेयर में ही लेते हैं आइए जानते हैं इंटरनल हार्डवेयर के बारे में

Power Supply: पावर सप्लाई कंप्यूटर का वह भाग हे जो कि  कंप्यूटर के CPU के सभी Parts को power की supply करता है तो इसे पावर सप्लाई बोलते हैं पावर सप्लाई में एक fan होता है जो इसे cooing देता है पावर सप्लाई में इनपुट के लिए 220 voltage से 240 voltage बिजली दी जाती है जो हमारे घर में normal आती है और पावर सप्लाई कंप्यूटर के इंटरनल components जैसे के motherboard, hard disk drive, DVD writer आदि को इनके according पावर देता है, जितने की इनको जरूरत होती है और पावर सप्लाई से बहुत सी wires निकलते हैं, जिनके connector/sockets अलग-अलग होते हैं उसे ही पता चलता है कि कौन सी wire किस हार्डवेयर की है

Motherboard: Motherboard CPU cabinet के अंदर एक बड़ी सी electronics plate का board होता है जिस पर कंप्यूटर के सभी pasts attached होते हैं मदरबोर्ड कंप्यूटर की backbone (रीड की हड्डी) होता है मदर बोर्ड को मैन बोर्ड भी बोलते हैं modern मदरबोर्ड काफी complex हो गए हैं video कार्ड, audio card, graphics card इनमें पहले से ही लगा हुआ आता है मदरबोर्ड पर Ram और Processor डायरेक्ट लगे होते हैं मदरबोर्ड में एक बैटरी(Cell) होती है, जो मदर बोर्ड के CMOS की सेटिंग और computer के टाइम को सही रखती है, जब motherboard में पावर सप्लाई बंद होती है, उस समय बैटरी मदरबोर्ड में एक बिजली का circuit बनाए रखती है

Processor: प्रोसेसर कंप्यूटर के सबसे main part होता है क्योंकि प्रोसेसर कंप्यूटर का दिमाग होता है प्रोसेसर से ही कंप्यूटर की काम करने वाली capacity का पता चलता है प्रोसेसर एक छोटी सी चिप होता है, जिस पर bottom side बहुत सी pins लगी होती है processor काम करते समय बहुत ही ज्यादा गर्म हो जाता है तो इसको cool करने के लिए इसके ऊपर एक heat sink लगा होता है  जो इसकी गर्मी को अपने अंदर ले लेता है, और heat sink को ठंडा करने के लिए इसके ऊपर एक fan लगा होता है motherboard पर आपको जो fan दिखाई देता है उसके नीचे ही प्रोसेसर लगा होता है mostly प्रोसेसर दो कंपनी के आते हैं AMD और Intel.

‌RAM: रैम की full form Random Access Memory. Ram एक rectangle type की छोटी सी electronic board होती है, जो मदरबोर्ड पर CPU Fan के पास लगी होती है Ram एक कंप्यूटर में एक और एक से ज्यादा हो सकती हैं यह मदर बोर्ड के socket पर depend करता है, कि उस पर कितनी Ram एक साथ काम कर सकती हैं, Ram का काम process होने वाले डाटा को संभाल कर रखना होता है जब डाटा को processor प्रोसेस कर देता है, तो ram उस डाटा को unload कर देती है और free space बना देती है, नए डाटा के लिए ram बहुत fast होती है और costly भी ram Temporary data store करती है, अगर किसी वजह से कंप्यूटर बंद हो जाए या हम कंप्यूटर को shut down करते हैं तो ram में load हुआ डाटा lost हो जाता है Ram का size हार्ड डिस्क के comparatively बहुत कम होता है Ram का size normal कंप्यूटर में 1GB से लेकर 8GB तक होता है Ram की types भी होती है, पहले DDR1, DDR2 राम आती थी अब DDR3, DDR4 चल रही हैं

Hard Disk Drive: हार्ड डिस्क कंप्यूटर की memory होती है कंप्यूटर data(music, movies, pictures, documents, operating system, software files) यहीं होता है हार्ड डिस्क एक बड़ा सा memory कार्ड होता है या फिर जैसे smart फोन में internal मेमोरी होती है, वैसे ही कंप्यूटर में internal मेमोरी hard disk होती है हार्ड डिस्क की  space बहुत ज्यादा होती है common कंप्यूटर में 500GB से लेकर 1500 तक की memory capacity होती है

Share on Google Plus

About Lakhvir Singh

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment